Aapni Agri
फसलें

Farming Tips: शीतलहर व पाले से फसलों को बचाने का सबसे आसान तरीका, फसल पर नहीं होगा ठंड का असर

Farming Tips:
Advertisement

Farming Tips:  सर्दी के मौसम में शीत लहरें और पाला सभी फसलों को कमोबेश नुकसान पहुंचाते हैं। टमाटर, आलू, मिर्च, बैंगन आदि सब्जियों और पपीते के पौधों तथा मटर, चना, धनिया, सौंफ आदि फसलों को सबसे अधिक 80 से 90% तक नुकसान हो सकता है। ऐसे में किसानों को अपनी फसलों को पाले और ठंड से बचाने के उपाय करने चाहिए, नहीं तो उनकी मेहनत बर्बाद हो जाएगी. सरकार ने किसानों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है.

Also Read: Murder in Illicit Relationship: भाभी को प्रेमी संग रंगे हाथों पकड़ना पड़ा महंगा, राज खुलने के डर से देवर की कर दी हत्या

ठंड और पाले से मर सकते हैं नए पौधे, बचाव का आसान तरीका जानें - New plants  can die due to cold and frost know the easy way to protect them -
Farming Tips:  शीत लहर और पाले से हानि

शीत लहर और पाले से गेहूं और जौ की फसल को 10 से 20 प्रतिशत तक नुकसान हो सकता है। पाले के कारण पौधों की पत्तियाँ और फूल झुलसे हुए दिखाई देते हैं और बाद में गिर जाते हैं। आधे पके फल भी सिकुड़ जाते हैं। उनमें झरियाँ पड़ जाती है और कालिया गिर जाती है। फलियां और बालियां दाने नहीं बनातीं और बनने वाले दाने सिकुड़ जाते हैं। दाने हल्के और पतले होते हैं। रबी फसलों में बालियां, फलियां निकलने और उनके विकास के दौरान फूल आने और पाला पड़ने की संभावना अधिक होती है।

Advertisement
Farming Tips:  किसानों को सतर्क रहना चाहिए

इस समय किसानों को सतर्क रहना चाहिए और फसल सुरक्षा के उपाय करने चाहिए। पाले के लक्षण सबसे पहले ओक जैसे पौधों पर दिखाई देते हैं। सर्दी के दिनों में जब दोपहर से पहले ठंडी हवा चलती है और हवा का तापमान हिमांक बिंदु से नीचे चला जाता है। यदि दोपहर में अचानक हवा चलना बंद हो जाए और आसमान साफ ​​रहे, या उस दिन आधी रात से हवा बंद हो जाए, तो पाला पड़ने की संभावना अधिक होती है।

रात में विशेषकर तीसरे और चौथे घंटे में पाला पड़ने की संभावना है। सामान्य तापमान कितना भी नीचे चला जाए, यदि शीत लहर हवा के रूप में चलती रहे तो कोई हानि नहीं होती। लेकिन इस बीच यदि छाया घूमना बंद कर दे और आसमान साफ ​​हो तो पाला गिरता है, जो फसलों के लिए हानिकारक होता है।

पाले से रबी फसलों को बचाने के उपाय
Farming Tips:  सर्दी एवं पाले से फसल सुरक्षा के उपाय

सरकारी एडवाइजरी के अनुसार रात के समय 12 से 2 बजे के आसपास खेत के उत्तर पश्चिम दिशा से आने वाली ठंडी हवा की दिशा में खेतों के किनारों पर बोई गई फसलों के आसपास घास के मैदानों पर कूड़ा या अन्य कूड़ा डालें। संभावना है कि खेत में धुआं और वातावरण में गर्मी पैदा करने के लिए घास के फूलों को जलाकर धुआं किया जाना चाहिए।

Advertisement

सुविधा के लिए घास के मैदान में 10 से 20 फीट के अंतराल पर कूड़े का ढेर लगाएं और धुआं करें। धूम्रपान के लिए कच्चे तेल का उपयोग अन्य पदार्थों के साथ भी किया जा सकता है। इस विधि से तापमान को आसानी से 4°C तक बढ़ाया जा सकता है।

Farming Tips:  नर्सरी के पौधों और सीमित क्षेत्र के बगीचों

नर्सरी के पौधों और सीमित क्षेत्र के बगीचों, नकदी सब्जियों की फसलों में मिट्टी के तापमान को कम होने से बचाने के लिए फसलों को कालीन, पॉलिथीन या पुआल से ढक दें। छतों को हवा की दिशा यानि उत्तर पश्चिम दिशा में बांधें। पाला पड़ने की संभावना होने पर सिंचाई करनी चाहिए। नम मिट्टी लंबे समय तक गर्म रहती है और मिट्टी का तापमान बिल्कुल भी नहीं गिरता है। इस प्रकार, पर्याप्त नमी से शीत लहर और पाले से क्षति होने की संभावना कम होती है। वैज्ञानिकों के अनुसार शीतकालीन फसलों में सिंचाई करने से तापमान 0.5 डिग्री से 2 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाता है।

शीतलहर व पाले से फसलों को बचाने के लिए अभी से करें तैयारी, वरना उठाना  पड़ेगा भारी नुकसान | To save your crops from the havoc of cold wave and  frost, prepare
Farming Tips:  सल्फ्यूरिक एसिड के 0.1% घोल का छिड़काव

जिन दिनों पाला पड़ने की संभावना हो, फसलों पर सल्फ्यूरिक एसिड के 0.1% घोल का छिड़काव करना चाहिए। इसके लिए एक लीटर सल्फ्यूरिक एसिड को 1000 लीटर पानी में घोलकर प्लास्टिक स्प्रेयर से एक हेक्टेयर क्षेत्र में छिड़काव करें. सुनिश्चित करें कि घोल का छिड़काव पौधों पर अच्छे से हो। स्प्रे का असर दो सप्ताह तक रहता है। यदि इस अवधि के बाद भी पाला और पाला बना रहे तो 15-15 दिन के अंतराल पर सल्फ्यूरिक एसिड का छिड़काव दोहराएँ।

Advertisement
Farming Tips:  सल्फ्यूरिक एसिड का छिड़काव

सरसों, गेहूं, चना, आलू, मटर जैसी फसलों को पाले से बचाने के लिए सल्फ्यूरिक एसिड का छिड़काव करने से न केवल पाले से बचाव होता है बल्कि पौधों में लौह तत्व की जैविक एवं रासायनिक सक्रियता भी बढ़ती है जिससे पौधों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और जल्दी ठीक होने में मदद मिलती है। फसल का पकना.

Also Read: Subsidy on Agricultural Machinery: हरियाणा सरकार एग्री मशीनें खरीदने पर दे रही 40-50% सब्सिडी, जानें आवेदन की अंतिम तारीख

Farming Tips:  पवनरोधी पेड़

फसलों की सुरक्षा के लिए दीर्घकालिक उपाय के रूप में, शहतूत, शीशम, बबूल, खेजड़ी, अर्दु और बेरी आदि जैसे पवनरोधी पेड़ खेत के उत्तर-पश्चिमी घास के मैदानों पर और कभी-कभी उचित स्थानों पर लगाए जाने चाहिए ताकि पाले और ठंडी हवाओं से बचा जा सके। से फसल को बचाएं.

Advertisement

शीतलहर और पाले से कैसे बचाएं फसल, कब कितनी करें सिंचाई....जाने इस रिपोर्ट  में - How to protect crops from cold wave and fog know here -

पाले के दिनों में फसलों की सिंचाई करने से भी पाले का प्रभाव कम हो जाता है। नर्सरी और बगीचों में पौधों और नकदी सब्जी फसलों में मिट्टी के तापमान के नुकसान को रोकने के लिए फसलों को कालीन, पॉलिथीन या पुआल से ढकें।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

किसानों के लिए फायदेमंद होती है भांग की खेती, जानिए कैसे मिलेगा लाइसेंस

Bansilal Balan

Wheat Price: महंगाई रोकने के ल‍िए सरकार ने उठाया बड़ा कदम, गेहूं की स्टॉक ल‍िम‍िट में 50 फीसदी करी कटौती

Rampal Manda

Olea Europaea: आस्था का प्रतीक है मन्द्राक वृक्ष, जानिए और किन कामों में होता है इसका इस्तेमाल

Bansilal Balan

Leave a Comment