Aapni Agri
कृषि समाचार

Farming Technique: नए साल में किसान जानें खेती की ये नई तकनीक, बढ़ जाएगी आमदनी

Farming Technique:
Advertisement

Farming Technique:  जलवायु परिवर्तन के कारण कृषि क्षेत्र को कई प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। परिणामस्वरूप, किसानों को तापमान और आर्द्रता में उतार-चढ़ाव, मौसम परिवर्तन, पाला, कोहरा, ओलावृष्टि, लू, शीतलहर और कीटों के प्रकोप का सामना करना पड़ रहा है। इससे बचने के लिए कृषि में नई तकनीकों का उपयोग करने में समय लगता है। नई तकनीक से फसल उत्पादन पर कोई असर नहीं पड़ेगा और किसानों को बेहतर पैदावार मिलेगी। ऐसी ही एक तकनीक है संरक्षित खेती। आइए जानते हैं संरक्षित खेती क्या है और इसके क्या फायदे हैं?

Also Read: Kitchen Garden Tips: फसल व पौधों को सर्दी से निपटने के ये 5 टिप्स, फसल नहीं आएगी ठंड की चपेट में

Farming Technique:  संरक्षित खेती क्या है

संरक्षित खेती एक नई तकनीक है। इसके माध्यम से फसलों के अनुरूप पर्यावरण को नियंत्रित करते हुए महंगी सब्जियों की खेती को प्राकृतिक आपदाओं और अन्य समस्याओं से बचाया जा सकता है और कम से कम क्षेत्र में अधिकतम उत्पादन लिया जा सकता है। संरक्षण खेती वह खेती है जो सभी परिस्थितियों में उगाई जाने वाली फसलों को विभिन्न आपदाओं से बचाती है।

Advertisement
UP Farmers: नई टेक्नोलॉजी और निवेश के जरिए किसानों की तस्वीर बदलने की  तैयारी, जानें क्या है मेगा प्लान - pictures of up farmers will change  through new technology and investment know
Farming Technique:  संरक्षित खेती की आवश्यकता क्यों

रोगमुक्त गुणवत्ता एवं सुरक्षित पौधों को वर्ष भर में आवश्यकतानुसार कम समय में कई बार उगाया जा सकता है।
यह फसलों को प्राकृतिक आपदाओं जैसे तापमान में उतार-चढ़ाव, ठंडी हवाएं, बारिश, ओले, पाला, बर्फबारी, गर्मी और अन्य कारकों से पूरी तरह बचाता है।
फसलों को कीटों, जंगली जानवरों आदि से बचाता है।
प्रति इकाई क्षेत्र उत्पादन और उत्पादकता दोनों को बढ़ाता है।
कम जुताई वाले खेतों के लिए अत्यंत उपयोगी तकनीक जिसके माध्यम से रोजगार को बढ़ावा दिया जा सकता है।
संरक्षित कृषि संरचनाएँ और उगाई गई सब्जियाँ

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Advanced Agriculture Techniques Helps To Modernize Indian Farming Sector  And Provide Profitable Income To Farmers | खेती-किसानी से छप्पर फाड़ पैसा  दिलाएंगी ये विदेशी तकनीक...कई किसानों का हुआ ...
फैन-पैड पॉलीहाउस- नर्सरी, टमाटर, खीरा, शिमला मिर्च
प्राकृतिक वातन पॉलीहाउस- नर्सरी, टमाटर, खीरा, शिमला मिर्च
कीट विकर्षक नेट हाउस- नर्सरी, टमाटर, खीरे, शिमला मिर्च
छायादार नेट हाउस- केवल नर्सरी और पत्तेदार सब्जियाँ
प्लास्टिक मल्य- अगेती चप्पन, कद्दू, लौकी, तोरई
प्लास्टिक गीली घास- सभी टमाटर और कद्दू की सब्जियाँ

Farming Technique:  संरक्षित खेतों से बचत

संरक्षित खेती से प्रति हेक्टेयर 5,000 रुपये की बचत हो सकती है। इससे पानी की बचत- 20-35%, समय की बचत- 25-30%, ईंधन की बचत- 60-75%, श्रम की बचत- 25-30%, ट्रैक्टर चलाने की बचत- 60-75% होती है। दूसरी ओर, उपज में 10-12% की वृद्धि, खरपतवारों में 30-45% की कमी और उर्वरक की 15 से 20% की बचत होती है।

Advertisement

Also Read: Haryana-Punjab Weather Update: शिमला से ठंडा हुआ हिसार, 10 जनवरी तक धूंध से छुटकारा नहीं, जानें हरियाणा-पंजाब की मौसम अपडेट

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
अपनी खानदानी खेती को बनाया आमदनी का बड़ा जरिया, नई तकनीक से अब बंपर मुनाफा  कमा रहा शख्स
Farming Technique:  संरक्षित खेतों के लिए सब्सिडी

संरक्षित खेती के लिए किसानों को 50 फीसदी तक सब्सिडी मिलती है. इसके अलावा, कुछ राज्यों में 25 से 30% की अतिरिक्त सब्सिडी दी जाती है, जिससे किसानों को कुल सब्सिडी 75-80% तक पहुंच जाती है। संरक्षित कृषि संरचनाएँ पॉलीहाउस, कीट-रोधी नेट हाउस, छायादार नेटहाउस खेती, प्लास्टिक लो-टनल, प्लास्टिक हाई-टनल, प्लास्टिक मल्चिंग, ड्रिप सिंचाई तकनीक आदि हैं।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Heat in February: फरवरी की गर्मी से गेहूं को हो सकता है भारी नुकसान, इन उपायों से बचाएं अपनी फसल को

Rampal Manda

Wheat Crop: पछेती गेहूं में तुरंत करें ये काम, नहीं घटेगी पैदावार

Rampal Manda

Disease Of Onion: प्याज की फसल में कब रोक दें पानी लगाना, साथ ही कीटों से बचाव का उपाय भी जानें

Rampal Manda

Leave a Comment