Aapni Agri
कृषि समाचार

Disadvantages giving wheat urea: गेहूं में कितने दिन तक यूरिया का कर सकते है प्रयोग, जानें बाद में करने के नुकसान

Disadvantages giving wheat urea:
Advertisement

Disadvantages giving wheat urea:  गेहूं में किसान आमतौर पर यूरिया को तीन हिस्सों में बांटकर अपने खेतों में डालते हैं. वह दो से तीन बैग यूरिया का उपयोग कर सकते हैं। कुछ इलाकों में तो किसानों ने तीन बोरी से ज्यादा यूरिया भी डाल दी। किसान अधिक मात्रा में यूरिया का प्रयोग न करें। इसके आपको कुछ नुकसान भी उठाना पड़ सकता है. गेहूं में कितनी यूरिया डालनी है और कितने समय तक डालनी है, इस पर कृषि वैज्ञानिक चर्चा करते हैं। पूरी जानकारी आप नीचे पा सकते हैं-

Also Read: Realme Narzo 60 Pro: इस फोन पर एक बार फिर तगड़ा डिस्काउंट, कीमत जान उठेंगे झूम

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
यूरिया जीवन से जहर तक का सफर
Disadvantages giving wheat urea:  गेहूं में यूरिया का प्रयोग कितने दिनों तक करें

आमतौर पर कुछ किसान साथी बुआई के समय यूरिया का उपयोग नहीं कर पाते हैं और वे यूरिया की पहली खुराक पहली सिंचाई के समय यानी 20 से 25 दिन बाद शुरू कर देते हैं। और वह देर तक भी यूरिया का प्रयोग करते रहते हैं। हमें अपनी गेहूं की फसल में 60 दिन के बाद यूरिया का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इससे गेहूं की फसल को नुकसान हो सकता है। 60 दिनों के बाद, आपकी गेहूं की फसल गाय अवस्था में है। और बालियां निकलने की प्रक्रिया शुरू कर देती हैं।

Advertisement
Disadvantages giving wheat urea:  गेहूं को देर से यूरिया देने के नुकसान

यदि आप गेहूं में 60 दिन के बाद यूरिया का प्रयोग करते हैं। तो इससे आपको कुछ नुकसान उठाना पड़ सकता है। जिनका उल्लेख नीचे किया गया है-
60 दिनों के बाद, यूरिया आपकी फसल की लंबाई बढ़ा देगा और फसल गिर सकती है और इसकी उपज कम हो सकती है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: white rot disease: सरसों में सफेद रोली रोग से निपटने के किसान तुरंत करें ये काम, लहलहा उठेगी फसल

जाने क्या है धान की फसल में यूरिया डालने का सही समय - Kisan Samadhan
Disadvantages giving wheat urea:  यूरिया का उपयोग

दूसरा यदि आप बड़ी मात्रा में यूरिया का उपयोग करते हैं। तो इससे आपकी फसल में फंगस और कीट रोग भी अधिक होंगे। क्योंकि यूरिया आपकी फसल को नरम कर देता है.
अधिक यूरिया का प्रयोग करने से आपकी मिट्टी की उर्वरता भी कम हो जाती है। क्योंकि यूरिया एक रासायनिक खाद है। जो मिट्टी के जैविक कार्बन को कम करते हैं।
तीसरा, अधिक यूरिया का उपयोग करने से फसल पर आपका खर्च भी बढ़ जाता है। जिसका आपको आर्थिक रूप से भी नुकसान उठाना पड़ता है।

Advertisement
Advertisement
READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Sirsa News: बाढ़ से 216 ट्यूबवेल, 183 कमरे और 158 ढाणियां क्षतिग्रस्त

Aapni Agri Desk

Artificial Intelligence: तेजी से मॉडर्न होता जा रहा खेती करने का तरीका, हो रहा नई नई तकनीक का इस्तेमाल

Rampal Manda

Nano Fertilizer: लॉन्च हुआ नैनो यूरिया और डीएपी, किसानों को ऐसे मिलेगा फायदा

Rampal Manda

Leave a Comment