Aapni Agri
ग्रामीण उद्योगफसलें

Date Palm Cultivation: एक हेक्टेयर में होगी 5 लाख रुपये की कमाई, खेती के लिए सरकार देती है पैसा…अभी शुरू करें

Date Palm Cultivation
Advertisement

Date Palm Cultivation: सरकार द्वारा किसानों को विभिन्न प्रकार की खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इसके तहत उन्हें सब्सिडी का लाभ प्रदान किया जाता है. सब्सिडी पाकर किसान कम लागत में फसल उगा सकते हैं. सरकार फलों और सब्जियों की खेती के लिए सब्सिडी का लाभ दे रही है. इसी कड़ी में राजस्थान सरकार किसानों को खजूर की खेती के लिए 75 फीसदी तक सब्सिडी दे रही है. खजूर ड्राई फ्रूट्स के अंतर्गत आता है. इसके लिए किसानों को राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत सब्सिडी का लाभ दिया जाता है.

Also Read: CAIT Response: चावल को लेकर जारी आदेश से छोटे व्यापारियों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी, इस रिपोर्ट में देखें पूरी जानकारी

Date Palm Cultivation: खजूर की खेती पर मिलेगी सब्सिडी

वित्तीय वर्ष 2023-24 में उद्यान विभाग किसानों को राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत खजूर की खेती के लिए अनुदान का लाभ दे रहा है. आपको बता दें कि इस योजना के तहत टिश्यू कल्चर तकनीक और ऑफशूट तकनीक से उत्पादित खजूर के पौधों की रोपाई के लिए किसानों को 75 प्रतिशत तक सब्सिडी दी जा रही है. इसके लिए राज्य के 17 जिलों का चयन किया गया है.

Advertisement
Date Palm Cultivation
Date Palm Cultivation

Date Palm Cultivation: यदि कोई किसान इस योजना के तहत अपने खेत में खजूर की खेती करता है तो उसे इस योजना का लाभ दिया जाएगा। आपको बता दें कि राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत यह योजना बाड़मेर, चूरू, सिरोही, जैसलमेर, श्रीगंगानगर, जोधपुर, हनुमानगढ़, नौगर, पाली, जालोर, बीकानेर, झुंझुनू आदि जिलों में संचालित की जा रही है.

Also Read: Wheat Crop: किसान रहें सतर्क…. बारिश से प्रभावित हो रही गेहूं की फसल, इन राज्यों में खतरा

Date Palm Cultivation: टिश्यू कल्चर तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा

जैसलमेर के किसानों को न्यूनतम 0.5 हेक्टेयर से अधिकतम 4 हेक्टेयर क्षेत्र में खजूर की खेती के लिए अनुदान दिया जाएगा। चयनित जिलों में किसान टिशू कल्चर या ऑफशूट तकनीक से उगाए गए पौधों से खजूर के बगीचे तैयार कर सकते हैं। शर्त यह है कि खजूर का बाग लगाने के लिए ड्रिप सिंचाई प्रणाली लगाना अनिवार्य होगा। इसके लिए किसानों को अलग से अनुदान दिया जाएगा. टिशू कल्चर तकनीक से खजूर के पेड़ लगाने पर किसानों को अधिकतम 3000 रुपये प्रति पौधा या प्रति पौधा इकाई लागत का 75 प्रतिशत, जो भी कम हो, अनुदान दिया जाएगा।

Advertisement
Date Palm Cultivation
Date Palm Cultivation

Also Read: Wheat Crop: जानें गेहूं में लगने वाले पट्टी रोली रोग प्रबंधन के उपाय और लक्षण

Date Palm Cultivation: यदि किसान ऑफशूट तकनीक से उत्पादित खजूर का पौधा खरीदकर रोपित करता है तो उसे ऑफशूट पौधे के मातृ पौधे एवं जड़ से अलग होने के तुरंत बाद क्रय मूल्य की 75 प्रतिशत राशि 1100 रुपये प्रति पौधा खरीद के साथ ही मिल जाएगी। खजूर का पौधा. विकसित होने या जमने के बाद प्लास्टिक बैग। लेकिन 75 फीसदी अनुदान 1500 रुपये होगा.

Date Palm Cultivation: एक हेक्टेयर में 5 लाख रुपये की कमाई होगी

रोपण सामग्री पर 70-75 प्रतिशत सब्सिडी के साथ, एक नया खजूर का बाग स्थापित करने में लगभग 3.8 लाख रुपये प्रति हेक्टेयर की लागत आती है।
बुआई के तीसरे वर्ष से फल लगने लगते हैं और उपज लगभग 3000 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर होती है।
पांच वर्षों के बाद, आर्थिक उपज लगभग 10-12 टन प्रति हेक्टेयर है।
ताजे फलों से प्रति हेक्टेयर लगभग 4.8 लाख रुपये प्राप्त हो सकते हैं।
बाजार भाव के अनुसार पांच साल बाद प्रति हेक्टेयर 3.5 लाख रुपये तक शुद्ध मुनाफा हो सकता है.

Advertisement

Also Read: Indian Army news: सेना के जवानों को लगेंगे जा रहे पंख, जेटपैक सूट पहनकर भरेंगे उड़ान

Date Palm Cultivation: खजूर की प्रमुख किस्में एवं संख्या

Date Palm Cultivation: खजूर की नर और मादा किस्में होती हैं। खजूर के 148 मादा पौधों के साथ 8 नर पौधे लगाना आवश्यक है। इसलिए किसानों को नर और मादा दोनों पौधों को एक ही अनुपात में खरीदना चाहिए यानी 148 मादा पौधों के साथ 8 नर पौधों को लगाना चाहिए.

Date Palm Cultivation
Date Palm Cultivation
Date Palm Cultivation: किन किस्मों पर मिलेगी सब्सिडी?

खजूर की रोपाई के लिए किसानों को प्रति हेक्टेयर उन्नत किस्म के 148 मादा पौधे और 8 नर पौधों की आवश्यकता होगी. खजूर की मादा किस्मों में बराही, खुनेजी, मेडजूल, खलास, खद्रावी, हलावी, सागई जैसी उन्नत किस्में शामिल हैं। जबकि नर किस्मों में केवल अल-इन सिटी और घानामी किस्मों को ही सब्सिडी दी जाएगी।

Advertisement

Also Read: Which fertilizers moong: मूंग की बिजाई करने का सही समय और तरीका जानें यहाँ

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Wheat Crop: अगर आपकी गेहूं की फसल नीचे गिर गई तो अपनाएं ये तरीके, होगा नुकसान से बचाव

Rampal Manda

Increasing Wheat Stalks: गेहूं की बढ़वार (बूटा मारना) चाहते हैं तो अपनायें ये तरीका, होगा गजब का लाभ

Aapni Agri Desk

Sweet Corn Farming: 20 हजार रुपये की लागत में 4 लाख का मुनाफा

Aapni Agri Desk

Leave a Comment