Aapni Agri
कृषि समाचार

Cotton Farming: कपास की खेती में कौन सी डाले खाद, जानें कौन सा उर्वरक सबसे बेहतर

Cotton Farming:
Advertisement

Cotton Farming:  कपास एक व्यापारिक एवं नकदी फसल है, जिसमें भारत नंबर एक उत्पादक है। इसे सफ़ेद सोना भी कहा जाता है क्योंकि इसकी खेती करने वाले अच्छा पैसा कमाते हैं। भारत लगभग 3.6 करोड़ गांठ कपास का उत्पादन करता है, जो विश्व के कपास उत्पादन का लगभग 24 प्रतिशत है। इसकी खेती के लिए काली उपजाऊ मिट्टी लाभकारी सिद्ध होती है। लेकिन उर्वरक भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यदि पर्याप्त उर्वरकों का प्रयोग नहीं किया गया तो अच्छी उपज नहीं होगी। भारत में इसकी खेती महाराष्ट्र, गुजरात, तेलंगाना, राजस्थान, हरियाणा और पंजाब में की जाती है। किसान इन्हें उगाने और कीटों से बचाने के लिए बड़ी मात्रा में उर्वरकों और कीटनाशकों का उपयोग करते हैं।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read:  Haryana Homosexuality Case: लड़की ने अपनी प्रेमिका के लिए याचिका दायर कर कहा, ‘‘मुझसे दूर रही तो मर जाएगी वो’’

Cotton
Cotton
Cotton Farming:  कौन सा उर्वरक अच्छा

अब सवाल यह है कि कपास के लिए कौन सा उर्वरक अच्छा है? विशेषज्ञों का कहना है कि पौधों की मांग और मिट्टी में कम उपलब्धता के कारण कपास की खेती में नाइट्रोजन (यूरिया) सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला उर्वरक है। कपास की फसल में फूल आने की अवस्था के दौरान हर 15 दिन में 2 किलोग्राम प्रति एकड़ की दर से पोटेशियम नाइट्रेट (एनपीके 13:0:45) को 200 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें।

Advertisement
Cotton Farming:  कपास के लिए कौन सी मिट्टी बेहतर है

कपास की खेती के लिए काली मिट्टी सबसे उपयुक्त होती है क्योंकि काली मिट्टी में नमी अधिक समय तक बरकरार रहती है और इसमें प्रचुर मात्रा में ह्यूमस होता है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Cotton Farming:  कपास में सबसे पहले किसका छिड़काव करना चाहिए

कपास की फसल पर सफेद मक्खी के प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए सबसे पहले नीम आधारित कीटनाशक जैसे आनंद नीम तेल 300 मिलीलीटर को 150-200 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें।

Cotton Farming:  यूरिया उर्वरक कितने समय तक काम करता है

दानेदार यूरिया की नाइट्रोजन केवल एक सप्ताह तक ही उपयोगी होती है।

Advertisement
कपास के लिए कौन सा उर्वरक अच्छा है

पौधों की अधिक मांग और मिट्टी में कम उपलब्धता के कारण कपास की खेती में नाइट्रोजन (यूरिया) सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला उर्वरक है।

Also Read: Agriculture News: खेती की इस ट्रिक से दोगुना होगा मुनाफा, जानें कैसे करें प्लान तैयार

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Cotton
Cotton
Cotton Farming:  कपास में कौन सा उर्वरक डालना चाहिए

कपास की फसल में फूल आने की अवस्था के दौरान हर 15 दिन में 2 किलोग्राम प्रति एकड़ की दर से पोटेशियम नाइट्रेट (एनपीके 13:0:45) को 200 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

El nino meaning: खत्‍म होने ही वाला है अल नीनो, जानें भारतीय किसानों को कैसे होगा फायदा

Rampal Manda

Rabi season crops: जून तक मौसम गर्म रहने के संकेत, रबी फसलों पर विपरीत असर पड़ने की आशंका

Rampal Manda

Disadvantages giving wheat urea: गेहूं में कितने दिन तक यूरिया का कर सकते है प्रयोग, जानें बाद में करने के नुकसान

Rampal Manda

Leave a Comment