Aapni Agri
फसलेंकृषि विशेषज्ञ सलाह

Potato crops: आलू की फसल में झुलसा रोग बचा रहा तबाही, जल्दी करें ये उपाय

Potato crops
Advertisement

Potato crops:  बारिश के बाद आलू की फसल में झुलसा रोग लगने की आशंका सबसे अधिक होती है। इस रोग से फसल को 40 से 45% तक नुकसान होता है। आलू की फसल उत्तर प्रदेश की प्रमुख नकदी फसल है जो अगेती झुलसा और पछेती झुलसा रोग दोनों के प्रति संवेदनशील है। स्कैल्ड रोग फाइटोफ्थोरा नामक कवक द्वारा फैलता है। जब वातावरण में नमी और रोशनी कम होती है, जैसे बारिश या बारिश के बाद, तो रोग पत्तियों से शुरू होता है। यह रोग चार से पांच दिन में पौधे की हरी पत्तियों को नष्ट कर देता है।

पत्तियों के नीचे की ओर सफेद गोले बन जाते हैं जो बाद में भूरे और काले रंग में बदल जाते हैं। कुछ ही दिनों में आलू के कंदों का आकार छोटा हो जाता है और उपज 25 से 30 प्रतिशत कम हो जाती है। इस खबर में किसानों को कृषि वैज्ञानिक के माध्यम से इस बीमारी की पहचान और रोकथाम के उपाय बताए गए हैं जिससे किसानों को इस बीमारी से लड़ने में मदद मिलेगी.

READ MORE  yellow rust wheat: गेहूं में इस कारण फैलता है पीला रतुआ रोग, जानें बचाव उपाय
Potato crops:  कैसे करें झुलसा रोग की पहचान

रबी सीजन में आलू की बुआई की जाती है. उत्तर प्रदेश आलू उत्पादन में अग्रणी राज्य है। ठंड के मौसम में आलू की फसल को पहले से ही सुरक्षित रखना ज्यादा जरूरी है. ठंड का सबसे ज्यादा असर आलू, सरसों और चने पर पड़ रहा है। कृषि विज्ञान केंद्र, लखनऊ के अध्यक्ष एवं प्रमुख कृषि वैज्ञानिक डॉ. अखिलेश दुबे ने बताया कि बारिश के बाद मौसम की नमी से शीघ्र झुलसा संक्रमण का खतरा रहता है, जिसे किसानों के लिए जानना बेहद जरूरी है।

Advertisement

Also Read: Pink Bollworm Weat Attack: कपास के बाद अब गेहूं की फसल को लपेटा, गुलाबी सुंडी ने बर्बाद की 30 फीसदी फसल

READ MORE  Mustard cultivation: उन्नत कृषि क्रियाएं अपनाकर सरसों की पैदावार को बढ़ायें, किसानों को दी खास सलाह
Potato crops:
Potato crops:

Potato crops: जब अत्यधिक पाले के कारण पत्तियाँ पीली हो जाती हैं तो इससे आलू सड़ जाता है। ऐसे में जलने से उपज पर भी असर पड़ता है. झुलसा रोग से बचाव के लिए किसानों को एक लीटर पानी में एक ग्राम मैनकोजीप और मेटालेक्ज़िम का मिश्रण बनाकर छिड़काव करना चाहिए। इससे बीमारी नियंत्रण में आ जाती है। इसी तरह यह दवा रेट्रोग्रेड बर्न पर भी काम करती है।

Potato crops:  ये कीट फसलों को भी नुकसान पहुंचाते हैं

आलू की फसल न केवल झुलसा रोग के लिए बल्कि कीट और थ्रिप्स किट के लिए भी अतिसंवेदनशील होती है। ऐसे में कृषि वैज्ञानिक डाॅ. अखिलेश दुबे ने कहा कि किसानों को प्रतिदिन अपनी फसलों का निरीक्षण करना चाहिए। थ्रिप्स और महोगनी कीट पत्तियों के पीछे चिपके रहते हैं। यदि ऐसे कीट दिखाई दें तो रोग को पूरी तरह नियंत्रित करने के लिए 0.3 मिली एमिडाक्लोपिड प्रति लीटर का छिड़काव करना चाहिए।

Advertisement
Potato crops
Potato crops:

Also Read: Dhan Mandi Bhav 11 December 2023: धान 1121, 1509, बासमती, 1718, सुगंधा किस्मों के जानें ताजा भाव

READ MORE  Wheat Production: तापमान बढ़ने से गेहूं के उत्पादन में कमी आने के बढ़े संकेत, अच्छी पैदावार के लिए तुरंत अपनाएं ये उपाय
Potato crops:  आलू के बीज को चमकदार बनाने के लिए करें उपाय

किसानों को भी फसल की सुरक्षा के लिए कुछ उपाय करने चाहिए। आलू की बेहतर पैदावार और कमाई के लिए किसानों को एक लीटर सल्फर ऑफ पोटाश को 15 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए. इससे आलू का कंद गाढ़ा हो जाता है और बीजों में चमक बढ़ जाती है। इससे किसानों को अच्छी पैदावार के साथ-साथ बीज से भी अच्छी आय होती है।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Agriculture News: कम तापमान और खुले मौसम के कारण सरसों में बढ़ रहा इस कीट का प्रकोप, जानें कृषि सलाह

Rampal Manda

आर्गेनिक खेती के लिए ऐसे तैयार करें जैविक कीटनाशक, घर पर ही मिल जाएगी सारी सामग्री

Bansilal Balan

दिल्ली और उत्तर भारत में 100 रुपये किलो बिक रहा टमाटर, जानिए महंगाई का कारण

Bansilal Balan

Leave a Comment