Aapni Agri
कृषि समाचार

Biggest Enemy Mustard: सरसों की फसल के सबसे बड़े दुश्मन से निपटने के लिए अपनाएं यह तरीका

Biggest Enemy Mustard:
Advertisement

Biggest Enemy Mustard:  देश के कई हिस्सों में ठंड बढ़ती जा रही है. एक ओर जहां देश के किसान अपनी फसलों की अच्छी पैदावार के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। इसके लिए वह फसलों को सिंचाई के साथ-साथ समय पर खाद भी देते हैं। लेकिन किसानों को अक्सर कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है. दिसंबर से फरवरी तक ठंड के प्रकोप के कारण फसलें कीटों के प्रकोप और पाले के प्रति भी संवेदनशील होती हैं। दरअसल, पाला सरसों की फसल का सबसे बड़ा दुश्मन माना जाता है।

Also Read: Fatehadab Crime News: दुकानदार की गर्दन पर कापा रखकर नकाबपोशों ने लूटी नकदी, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात

READ MORE  Wheat procurement: Kisan Andolan के बीच बड़ा ऐलान, इस साल MSP के कारण पिछले साल की बजाय कम होगी गेहूं खरीद
Mustard
Mustard
Biggest Enemy Mustard:  बर्फबारी के कारण मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ी

इस बीच देश में धीरे-धीरे शीतलहर चल रही है क्योंकि पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी के कारण मैदानी इलाकों में ठंड तेजी से बढ़ गई है। यह सरसों किसानों के लिए परेशानी का सबब बन सकता है. ऐसे में किसानों को अपनी फसलों की सुरक्षा करना बेहद जरूरी है. आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताएंगे जिनसे आप अपनी सरसों की फसल को पाले से बचा सकते हैं।

Advertisement
Biggest Enemy Mustard:  कितना हो सकता है नुकसान

सरसों की बुआई करते समय किसानों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बीज उन्नत किस्म के और स्वस्थ हों। क्योंकि सर्दी के मौसम में शीत लहरें और पाला रबी की सभी फसलों को नुकसान पहुंचाता है। रबी की सबसे प्रमुख फसल गेहूं के अलावा तिलहन को सबसे ज्यादा 80 से 90 फीसदी तक नुकसान हो सकता है।

READ MORE  Central Government: किसान आंदोलन के बीच केंद्र सरकार ने दिया बड़ा फैसला, गेहूं खरीद का पैसा 48 घंटे में होगा खाते में
Biggest Enemy Mustard:  पाले का फसलों पर प्रभाव

ठंड के दिनों में पाले के कारण फल नष्ट हो जाते हैं और फूल झड़ जाते हैं।
प्रभावित फसल का हरा रंग गायब हो जाता है तथा पत्तियाँ भूरी दिखाई देने लगती हैं।
ऐसे में पौधों की पत्ती सड़ने से जीवाणु जनित रोगों का प्रकोप बढ़ जाता है।
सरसों की पत्तियां, फूल और फल सूख जाते हैं। फल धब्बेदार हो जाता है और स्वाद ख़राब हो जाता है।
पाले से प्रभावित सरसों में कीटों का प्रकोप भी बढ़ जाता है।
पाले के कारण अधिकांश पौधों के फूल झड़ जाते हैं और पैदावार कम हो जाती है

READ MORE  Mustard production India: सरसों की फसल में एमएसपी के कारण किसानों के हाथ लगी निराशा, जानें कैसे

Also Read: Disease Of Onion: प्याज की फसल में कब रोक दें पानी लगाना, साथ ही कीटों से बचाव का उपाय भी जानें

Advertisement
Mustard
Mustard
Biggest Enemy Mustard:  फसलों की सुरक्षा के उपाय

सरसों को पाले से बचाने के लिए सल्फर युक्त रसायनों का प्रयोग लाभकारी होता है। 0.2 प्रतिशत डाइमिथाइल सफ़ो ऑक्साइड या 0.1 प्रतिशत थायो यूरिया का छिड़काव करें और 15 दिन के अंतराल पर दोहराएं। साथ ही शीत लहर शुरू होने पर फसल में हल्की सिंचाई करें.

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Wheat Crop: अगर गेहूं की फसल को बर्बाद कर रहे हैं जड़ माहू कीट, तो अपनाएं ये तरीके

Rampal Manda

Vegetable farming: जानें खीरे की फसल को वायरस से बचाने के उपाय, यह काम करें किसान

Rampal Manda

Nilgai lamp: खेत से अगर नीलगाय को भगाना है तो इस तरह जलाएं दीया, कीट- पतंगों से भी मिलेगी राहत

Rampal Manda

Leave a Comment