Aapni Agri
पशुपालन

Animal Husbandry: प्रतिदिन 30 लीटर दूध देती है इस नस्ल की भैंस, होगी मोटी कमाई

Animal Husbandry: Buffalo of this breed gives 30 liters of milk per day
Advertisement

Animal Husbandry: किसान खेती के साथ-साथ पशुपालन करके भी अपनी आय बढ़ा सकते हैं। इसके लिए सरकार की ओर से किसानों को प्रोत्साहित भी किया जा रहा है. पशुपालन के लिए सरकार की ओर से पशुओं को खरीदने के लिए सब्सिडी दी जाती है. इसके अलावा पशुओं का बीमा भी करवाया जाता है ताकि पशु हानि होने पर नुकसान की भरपाई की जा सके। ऐसे में पशुपालक किसान पशुओं के लिए डेयरी खोलकर अच्छी कमाई कर सकते हैं. बाजार में दूध और दूध से बने उत्पादों की मांग के कारण आज डेयरी उद्योग काफी फायदे का सौदा साबित हो रहा है।

अगर आप भी पशु पालना चाहते हैं या पशुओं की डेयरी खोलना चाहते हैं तो इसके लिए आपको सबसे अच्छी नस्ल का चयन करना चाहिए ताकि अधिक दूध के साथ-साथ आपको इससे बेहतर लाभ भी मिल सके। भैंस की कई नस्लें हैं जो बहुत अच्छा दूध उत्पादन देती हैं। इन्हीं नस्लों में से एक है मुर्रा नस्ल जो प्रतिदिन 30 लीटर तक दूध देने की क्षमता रखती है। इस नस्ल को पालकर आप अच्छा पैसा कमा सकते हैं। खास बात यह है कि मुर्रा भैंस खरीदने के लिए सरकार की ओर से 50 फीसदी तक सब्सिडी दी जाती है.

READ MORE  Pashu Kisan Credit Card: हरियाणा में पशुपालकों की बनी चांदी, ऐसे मिले 2000 करोड़ रुपये

Also Read: Pea Farming: इस महीने करें मटर की इन टॉप 7 किस्मों की खेती, मिलेगी बंपर पैदावार

Advertisement

आज हम आपको पशुपालन के लिए सर्वोत्तम नस्ल भैंस की मुर्रा नस्ल के बारे में जानकारी दे रहे हैं, तो आइए जानते हैं इस नस्ल की विशेषताएं, कीमत और फायदे।

मुर्रा नस्ल क्या है? प्रमुख विशेषताऐं

मुर्रा नस्ल की भैंस दूध उत्पादन के लिए सबसे अच्छी नस्ल मानी जाती है। इस नस्ल को दूध उत्पादन और मांस के लिए पाला जाता है। यह नस्ल मुख्यतः पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में पाई जाती है। इसकी नस्ल की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं

इस नस्ल की भैंस का रंग काला होता है। यह आकार में बड़ा होता है और इसके सींग जलेबी की तरह मुड़े हुए होते हैं।
इसकी मादा भैंस की आंखें चमकीली और गर्दन लंबी और पतली होती है।
इसकी पूंछ लंबी होती है और निचले सिरे पर सफेद और काले बालों का गुच्छा होता है।
इसकी नसें उभरी हुई होती हैं और थन समान दूरी पर होते हैं। इसका पश्च अयन क्षेत्र बड़ा है।
इस नस्ल के नर चौड़े, भारी, मजबूत और मांसल होते हैं।
मुर्रा नस्ल की भैंस कम तापमान वाले क्षेत्रों में भी आसानी से रह सकती है।
इस नस्ल की भैंस के दूध में वसा की मात्रा 7.3 प्रतिशत होती है।

Advertisement
Also Read: Chanakya Niti: ये होती है चरित्रहीन महिलाओं की पहचान, ये बात आपको भी जाननी चाहिए.
मुर्रा नस्ल को पालने से कितना लाभ मिल सकता है?

मुर्रा भैंस को अधिक दूध उत्पादन के लिए पाला जाता है। अगर इस भैंस की ठीक से देखभाल की जाए और उचित मात्रा में भोजन दिया जाए तो यह भैंस प्रतिदिन 20 से 30 लीटर दूध दे सकती है। मुर्रा भैंस का गर्भकाल 310 दिन का होता है।

READ MORE  Agricultural News: PM मोदी ने गाय और भैंस के साथ साथ किसानों को दी बकरी पालने की सलाह, जानें क्यों
मुर्रा नस्ल की कीमत क्या है?

मुर्रा भैंस के दूध में वसा की पर्याप्त मात्रा होने के कारण इसका दूध गाढ़ा होता है। भैंस के इस दूध की बाजार में अच्छी कीमत मिलती है। इसकी बाजार कीमत काफी अच्छी है. इसकी बाजार कीमत 50,000 रुपये से लेकर 2 लाख रुपये तक है.

मुर्रा नस्ल की खरीद पर कितनी सब्सिडी मिलती है?

मध्य प्रदेश सरकार का पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग मुर्रा नस्ल की भैंस की खरीद पर किसानों को 50 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान करता है। वहीं, अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जनजाति के पशुपालक किसानों को 75 प्रतिशत सब्सिडी का लाभ प्रदान किया जा सकता है. ऐसे में यहां के किसान मुर्रा भैंस खरीदने के लिए सरकार से मिलने वाली सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं. उदाहरण के तौर पर अगर भैंस की कीमत एक लाख रुपये है तो पशुपालक किसान को इसके लिए सरकार की ओर से 50,000 रुपये की सब्सिडी मिलेगी. जबकि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों को 75,000 रुपये तक की सब्सिडी मिल सकती है.

Advertisement
पशुओं के चारे और आवास के लिए भी सरकार की ओर से मिलती है सहायता

इतना ही नहीं, सरकार पशुओं के चारे और आवास के लिए भी वित्तीय सहायता प्रदान करती है। इसके लिए मनरेगा पशु शेड योजना चलायी जा रही है. यह योजना उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, पंजाब राज्यों में शुरू की गई है। इस योजना के तहत केंद्र सरकार द्वारा 3 पशुओं पर 75,000 रुपये से 80,000 रुपये तक की सब्सिडी दी जाती है. तीन से अधिक पशु होने पर पशुपालक को सरकार की ओर से 1 लाख 16 हजार रुपये की आर्थिक सहायता मिल सकती है. इसके लिए किसान को आवेदन करना होगा. आवेदन स्वीकृत होने के बाद सब्सिडी राशि सीधे लाभार्थी के खाते में स्थानांतरित कर दी जाती है।

READ MORE  Animal Care: गर्मियों में पशुओं की ऐसे करें देखभाल, यहाँ जानें जरूरी टिप्स
Also Read: DBT Agriculture: इस कार्ड से किसानों को मिलेगा 74 सरकारी योजनाओं का लाभ, ऐसे उठाएं फायदा
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

43 Indigenous Breeds of Cow: जानें भारत में पाई जाने वाली गायों की सभी नस्लों के बारे में

Aapni Agri Desk

Agriculture News: दुधारू पशुओं को खिलाएं यह चीज, बढ़ जाएगी दूध की मात्रा

Rampal Manda

Animal Husbandry: पशुओं के घर की लंबाई रखें उत्तर-दक्षिण दिशा में, पशुओं में होगा बाधा

Rampal Manda

Leave a Comment