Aapni Agri
पशुपालन

Animal Husbandry: अगर पशुओं का दूध बढ़ाना है तो गर्मी में करें ये काम, दूध होगा बम्पर

Animal Husbandry:
Advertisement

Animal Husbandry:  गर्मी के मौसम में इंसानों के साथ-साथ जानवरों की भी देखभाल पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। विशेषकर उत्तर-पश्चिमी भारत में गर्मी बहुत अधिक पड़ती है और लम्बे समय तक रहती है। गर्मियों में यहां का तापमान 45 डिग्री से भी अधिक हो जाता है। ऐसे मौसम में जानवर तनाव में रहते हैं।

Animal Husbandry: शारीरिक विकास

इस तनावपूर्ण स्थिति का पशुओं के पाचन तंत्र और दूध उत्पादन क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इस मौसम में नवजात पशुओं की देखभाल में थोड़ी सी भी लापरवाही उनके भविष्य के शारीरिक विकास, स्वास्थ्य, प्रतिरक्षा और उत्पादन क्षमता पर स्थायी प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है।

Also Read: Cotton Price: इस मंडी में नरमा बिका 10,000 रुपये क्विंटल, किसानों की बढ़ी उम्मीद

Advertisement
गर्मी के मौसम में गाय-भैंस के कम दूध देने से हैं परेशान? काम आ सकते हैं ये  घरेलू उपाय - cattlle rearers Home remedies for increasing milk production  in cow and buffalo
Animal Husbandry: गर्मियों में उत्पादन क्षमता कम हो सकती है

यदि ग्रीष्मकालीन पालन के दौरान सावधानी न बरती जाए तो पशुओं द्वारा खाए जाने वाले सूखे चारे की मात्रा 10 से 30 प्रतिशत तथा दूध उत्पादन क्षमता 10 प्रतिशत तक कम हो सकती है। दूसरी ओर, अत्यधिक गर्मी के कारण होने वाला ऑक्सीडेटिव तनाव पशुओं की बीमारियों से लड़ने की आंतरिक क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है और आने वाले बरसात के मौसम में वे विभिन्न बीमारियों के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं। इससे उनके उत्पादन और प्रजनन क्षमता में गिरावट आती है। ऐसे में गर्मी के मौसम में पशुओं को कम से कम दो बार नहलाना और साफ-सफाई बनाए रखना जरूरी है।

Animal Husbandry: जानवरों पर पानी का छिड़काव करें

परिवेश का तापमान अधिक होने पर जानवरों को दिन में दो या तीन बार ठंडे पानी का छिड़काव करें। यदि संभव हो तो भैंसों को तालाबों और पोखरों में ले जाएं। प्रयोगों से पता चला है कि दोपहर के समय जानवरों को ठंडे पानी से नहलाने से उनके उत्पादन और प्रजनन क्षमता में वृद्धि होती है।

Murrah Buffalo Live Milking - YouTube
Animal Husbandry: साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें

पशु आवास में स्वच्छ एवं हवादार पशु शेड होना चाहिए। ठोस और गैर-पर्ची फर्श और जानवरों के मल और पानी की निकासी के लिए सही ढलान के साथ। गर्मियों में अधिक गर्मी से बचने के लिए खलिहान की छत थोड़ी खुली होनी चाहिए। इसके लिए एस्बेस्टस सीट का इस्तेमाल किया जा सकता है. अत्यधिक गर्मी के दिनों में छत को घास और छतरी की 4 से 6 इंच मोटी परत से ढक देना चाहिए। यह परत ऊष्मा अवरोधक के रूप में कार्य करती है। इससे खलिहान के अंदर का तापमान कम रहता है।

Advertisement

Also Read: Delhi ED raid: दिल्ली में 12 जगहों पर ED की छापेमारी जारी, जानें क्या है दिल्ली जल बोर्ड घोटाला?

गाय भैंस से गर्मियों में भी होगी दूध की बंपर पैदावार, इन तरीकों से होता है  बड़ा फायदा - There will be bumper production of milk from cow and buffalo  even in
Animal Husbandry: पशुओं को गर्मी से बचाने के उपाय

पशुशाला की छत को सफेद रंग से रंगना या सूर्य की रोशनी को प्रतिबिंबित करने के लिए चमकदार एल्यूमीनियम शीट लगाना भी उपयुक्त पाया गया है। खलिहान में उचित वेंटिलेशन सुनिश्चित करने के लिए और जानवरों को छत की गर्मी से बचाने के लिए खलिहान की छत की ऊंचाई कम से कम 10 फीट होनी चाहिए। खिड़कियों, दरवाजों और अन्य खुले स्थानों जहां से गर्म हवा आती हो, वहां बोरे या कालीन लटकाकर पानी छिड़कें। खलिहान में पंखा रखना भी लाभदायक होता है। इसलिए यदि संभव हो तो उसकी भी व्यवस्था की जानी चाहिए.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Cow: पालें इन नस्लों की गाय, प्रतिदिन मिलेगा 50 लीटर से ज्यादा दूध

Bansilal Balan

आत्मा योजना में प्रगतिशील किसानों और पशुपालकों को किया सम्मानित, जानें क्या है योजना और लाभ

Bansilal Balan

Animal Husbandry: सर्दी के मौसम में बढ़ाना चाहते हैं गाय-भैंस का दूध तो उन्हें खिलाएं ये आहार

Aapni Agri Desk

Leave a Comment