Aapni Agri
कृषि समाचार

Advisory for farmers: गेहूं की अगेती फसल में ऐसे करें लोज‍िंग कंट्रोल, जानें पछेती में क‍िस तरह खत्म करें खरपतवार

Advisory for farmers:
Advertisement

Advisory for farmers:  उच्च उर्वरता वाली सिंचाई स्थितियों में पहले से बोई गई गेहूं की फसल में ठहराव (फसल गिरने) की समस्या हो सकती है। इससे किसानों को नुकसान हो सकता है. ऐसे में समय रहते इस पर नियंत्रण पाना जरूरी है। भारतीय गेहूं एवं जौ अनुसंधान संस्थान, करनाल ने अपनी एडवाइजरी में इस समस्या का समाधान बताया है. संस्थान के कृषि वैज्ञानिकों ने कहा है कि ग्रोथ रेगुलेटर का उपयोग लॉजिंग को नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है।

Also Read: Arvind Kejriwal ED summon: ED के सामने नहीं पेश होंगे केजरीवाल, समन को बताया राजनीति से प्ररित

Advisory for farmers:  ग्रोथ रेगुलेटर क्लोरमेक्वेट क्लोराइड

ग्रोथ रेगुलेटर क्लोरमेक्वेट क्लोराइड (सीसीसी) @ 0.2% + टेबुकोनाज़ोल 250 ईसी @ 0.1% वाणिज्यिक उत्पाद खुराक के टैंक मिश्रण के रूप में नोड से पहले (बुवाई के 50-50 दिन बाद) और फ्लैग लीफ (बुवाई के 75-85 दिन बाद) दो स्प्रे।) पर । जिन किसानों ने पहले से बोए गए गेहूं पर पहला छिड़काव नहीं किया है, वे बुआई के 70-80 दिन बाद केवल एक ही छिड़काव कर सकते हैं।

Advertisement
गेहूं की खेती के लिए एडवाइजरी जारी, कृषि एक्सपर्ट्स की सलाह पर ध्यान दें  किसान - Agriculture scientist issued advisory for farmers related to wheat  farming sslbsv
Advisory for farmers:  गेहूं के संबंध में सुझाव

आने वाले दिनों में बारिश और तापमान के पूर्वानुमान के बारे में भारतीय मौसम विभाग से प्राप्त इनपुट के आधार पर संस्थान ने किसानों को गेहूं की खेती के संबंध में कुछ सुझाव दिए हैं। यह एडवाइजरी 15 फरवरी तक वैध रहेगी। आईएमडी के पूर्वानुमान के मुताबिक, आने वाले हफ्तों में तापमान सामान्य रहने की उम्मीद है। कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि नाइट्रोजन की तीसरी खुराक बुआई के 40-45 दिन बाद पूरी कर लेनी चाहिए. सर्वोत्तम परिणामों के लिए सिंचाई से ठीक पहले यूरिया डालें।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Advisory for farmers:  पछेती फसलों के लिए खरपतवार नियंत्रण

यदि गेहूं के खेत में संकरी और चौड़ी पत्ती वाले दोनों प्रकार के खरपतवार हों तो सल्फोसल्फ्यूरॉन 75 डब्लूजी 13.5 ग्राम/एकड़ या सल्फोसल्फ्यूरॉन मेट्सल्फ्यूरॉन 16 ग्राम/एकड़ को पहली सिंचाई से पहले 120-150 लीटर पानी में या सिंचाई के 10-15 दिन बाद 120-150 लीटर पानी में मिलाकर डालें। पानी डा।

Advisory for farmers:  पीला रतुआ के लिए सलाह

रतुआ के लिए अनुकूल मौसम को देखते हुए, किसानों को सलाह दी जाती है कि वे धारीदार रतुआ (पीला रतुआ) की उपस्थिति के लिए नियमित रूप से अपनी फसलों की निगरानी करें। यदि किसान अपने गेहूं के खेत में पीला रतुआ देखें और इसकी पुष्टि करें तो इसके नियंत्रण के लिए निम्नलिखित उपाय सुझाए गए हैं।

Advertisement
Advisory for farmers:  संक्रमण रोकने के लिए

आगे फैलने से रोकने के लिए संक्रमण क्षेत्र पर 0.1 प्रतिशत की दर से प्रोपिकोनाज़ोल 25 ईसी या 0.06% की दर से टेबुकोनाज़ोल 50%+ट्राइफ्लुक्सीस्ट्रोबिन 25% डब्ल्यूजी का स्प्रे किया जाना चाहिए। एक लीटर पानी में एक एमएल केमिकल मिलाना चाहिए। अत: एक एकड़ गेहूं की फसल में 200 मिलीलीटर फफूंदनाशक दवा को 200 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Credit Scheme: कृषि क्षेत्र को आगे बढ़ाने के लिए 34490 करोड़ की ऋण योजना तैयार, अब किसानों को मिलेगा फायदा

गेहूं की खेती के लिए एडवाइजरी जारी, कृषि एक्सपर्ट्स की सलाह पर ध्यान दें  किसान - Agriculture scientist issued advisory for farmers related to wheat  farming sslbsv
Advisory for farmers:  गुलाबी छेदन के लिए सलाह

गुलाबी छेदक का हमला उन क्षेत्रों में देखा गया है जहां मुख्य रूप से धान, मक्का, कपास, गन्ना उगाया जाता है। गेहूं में गुलाबी छेद से प्रभावित पौधे पीले पड़ जाते हैं और आसानी से उखाड़े जा सकते हैं। जब पौधों को उखाड़ा जाता है तो उनकी निचली शिराओं पर गुलाबी जूँएँ देखी जा सकती हैं।

Advertisement

 

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

What is Mawatha: देश के अधिकांश जगहों पर बरस रहा मावठा, जिससे फसलों को हो रहा फायदा

Rampal Manda

यूरिया गोल्ड जिसके कारण बढ़ जाएगी फसलों की पैदावार, जानें क्या है यूरिया गोल्ड और स्प्रे करने की विधि

Aapni Agri Desk

Agriculture budget 2024: फसल बर्बादी रोकने को एग्री प्रॉसेसिंग यूनिट की मजबूती बेहद आवश्यक, बजट में किसानों पर मेहरबान हो सकती है सरकार

Rampal Manda

Leave a Comment