Aapni Agri
योजनाएं

10 per kg: इन फसलो की खेती करने पर किसानों को मिलेंगे प्रति किलो 10 रुपए की राशि

10 per kg:
Advertisement

10 per kg:  देश में मोटे अनाज (श्री ऐन) का उत्पादन बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा कई प्रयास किये जा रहे हैं। किसानों को इन फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं।

Also Read: Fodder: अब आलू और पराली से बनेगा बकरियों के लिए स्वादिष्ट चारा, जानें कैसे?

10 per kg:  रानी दुर्गावती श्री अन्न प्रोत्साहन योजना

इसी कड़ी में मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य में रानी दुर्गावती श्री अन्न प्रोत्साहन योजना शुरू करने का फैसला किया है। योजना के तहत श्री ऐन की खेती करने वाले किसानों को प्रति किलोग्राम 10 रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी.

Advertisement
Farmers should cultivate onion by planting saplings in Kannauj they will  get good production - कन्नौज में किसान पौध लगाकर करें प्याज की खेती, मिलेगा  अच्छा उत्पादन, कन्नौज न्यूज
10 per kg:  रानी दुर्गावती श्री अन्न प्रोत्साहन योजना

बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में यह फैसला लिया गया. मुख्यमंत्री डाॅ. बैठक जबलपुर के शक्ति भवन में मोहन यादव की अध्यक्षता में आयोजित की गई. मंत्रिपरिषद की बैठक में सरकार ने श्री अन्ना के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए रानी दुर्गावती श्री अन्न प्रोत्साहन योजना लागू करने का निर्णय लिया है.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
10 per kg:  रानी दुर्गावती श्री अन्न प्रोत्साहन योजना क्या है?

बाजरा, रागी, ज्वार, बाजरा आदि उत्पादक किसानों को 10 रुपये प्रति किलोग्राम प्रदान किया जाएगा। यह रकम सीधे किसानों के खाते में ट्रांसफर की जाएगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में नई बाजरा क्रांति की शुरुआत की है.

10 per kg:  उनकी पहल पर वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष घोषित किया गया।

मध्य प्रदेश में बाजरा की खेती मंडला, डिंडोरी, बालाघाट, छिंदवाड़ा, अनुपपुर, सीधी, सिंगरौली, उमरिया, शहडोल, सिवनी और बटुल जिलों में की जाती है। रानी दुर्गावती श्री अन्न प्रोत्साहन योजना बाजरा किसानों की आय बढ़ाने के लिए फसल उत्पादन, भंडारण, प्रसंस्करण, विपणन, खरीद, ब्रांड बिल्डिंग के साथ मूल्य श्रृंखला विकसित करने के उद्देश्य से लागू की गई है।

Advertisement
10 per kg:  तेंदूपत्ता संग्राहकों को प्रति बोरा 4 हजार रुपए मिलेंगे

कैबिनेट ने तेंदुआ संग्रहण दर बढ़ाने का निर्णय लिया है। सागौन पत्ती संग्रहण की दर 3,000 रूपये प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर 4,000 रूपये प्रति मानक बोरा कर दी गई है। इस निर्णय से राज्य में 35 लाख तेंदुआ संग्राहकों को लगभग 165 करोड़ रुपये का अतिरिक्त पारिश्रमिक मिलेगा।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

यहाँ शुरू हुई बच की खेती, किसानों को प्रति एकड़ मिलेगा एक लाख रुपए तक का  मुनाफा - Kisan Samadhan

Also Read: Cultivation of maize: मक्के की खेती करने वाले किसानों के लिए बड़ी सौगात, खेत बनेंगे पेट्रोल के कुएँ

Advertisement

2022 से इसे बढ़ाकर 3,000 रुपये प्रति बोरा कर दिया गया. तेंदूपत्ता संग्रहण दर अब 4,000 रूपये प्रति बोरा कर दी गई है। कैबिनेट ने मध्य प्रदेश में बुनियादी सिंचाई सुविधाएं विकसित करने और सिंचाई क्षेत्र बढ़ाने के उद्देश्य से 32 हजार करोड़ रुपये की सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण को भी मंजूरी दी।

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

PM Kisan Yojana: वापिस होगी प्रधानमंत्री सम्मान निधि की किस्तें, कृषि विभाग करेगा वसूली

Aapni Agri Desk

Liquor license: चाहते हैं शराब ठेका खोलना तो जानें आवेदन का तरीका व फीस के बारे में विस्तार से

Aapni Agri Desk

Pradhan Mantri Suryoday Yojana: एक करोड़ घरों की छतों पर रूफटॉप सोलर लगाएगी सरकार, बिजली बिल से मिलेगी राहत

Aapni Agri Desk

Leave a Comment